वेदचक्षु किलेदं स्मृतं ज्योतिषं मुख्यता चाङ्गमध्येऽस्य तेनोच्यते |
संयुतोऽपीतरैः कर्णनासादिभिश्चक्षुषाङ्गेन हीनो न किंचित्करः ||
तस्माद्द्विजैरध्ययनीयमेतत् मुख्यं रहस्यं परमं च तत्त्वम् |
यो ज्योतिषां वेत्ति नरः स सम्यग् धर्मार्थकामान् लभते यशश्च ||
(भास्कराचार्य )

about astrology

Astrology is the belief the positions of the stars and movements of the planets of the Solar System, and also asteroids and other stars, but not as much, have an influence on the events, lives, and behavior of people..

About

know about astrology

भारतीय संस्कृति वेदों पर आधारित है। वेदों में न सिर्फ धार्मिक बल्कि चिकित्सा विज्ञान, खगोल विज्ञान, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान जैसे विषयों का विस्तृत वर्णन मिलता है। भारतीय ज्योतिष विद्या का जन्म भी वेदों से हुआ है। वेदों से जन्म लेने के कारण इसे वैदिक ज्योतिष भी कहा जाता है।

वैदिक शास्त्र एक प्रकार का विज्ञान है जो आकाश में स्थित सूर्य, चंद्रमा, नौ ग्रहों और नक्षत्रों का अध्ययन करता है और पृथ्वी पर रहने वाले मनुष्यों के जीवन पर उसका क्या प्रभाव पड़ेगा बताता है। वैदिक ज्योतिष की गणना करते समय राशि चक्र, नवग्रह, जन्म राशि को आधार बनाया जाता है।

राशियों का निर्माण नक्षत्रों से हुआ है। तारा समूह को नक्षत्र कहते हैं। कुल नक्षत्रों की संख्या 27 है। प्रत्येक नक्षत्र 13 डिग्री 20 मिनट का होता है। राशिचक्र में प्रत्येक राशि में 30 डिग्री होती है। राशिचक्र में सबसे पहला नक्षत्र अशिवनी है।

about us

About

पंडित श्री लेखराज द्विवेदी आत्मज पंडित श्री जयनारायण जी द्विवेदी ग्राम धुन्दाडा,जोधपुर का जन्म २५/२६-११-१९२८ को प्रातः ४ बजे हुआ,इनका प्रारंभिक पठन इनके पिता जी के सानिध्य में ही कर्मकांड का विस्तार से अध्ययन किया,संस्कृत अध्ययन के लिए गिडूमल संस्कृत पाठशाला (सिंध-पाकिस्थान) में आचार्य पंडित श्री मणिशंकर जी द्विवेदी के सानिध्य में हुआ,१९३७-३८ में बंगाल की संकृत की परीक्षा प्रथम श्रेणी से पास की,पंडित जी का यगोपवित संस्कार करने से पूर्व वेधाध्यान हेतु सौरास्त्र में जामनगर में श्री जाम रंजित संस्कृत पाठशाला में ब्रहमचर्य अवस्था की पूर्ण पालन करते हुए गुरुकुल आश्रम की तरह वैसे ही वातावरण में त्रिकाल संध्या.../
 

know more
About

पंडित घनश्याम द्विवेदी आत्मज स्व पंडित श्री लेखराज जी द्विवेदी आपका जन्म  विक्रम संवत  २०२३ में हुआ | आपका प्रारंभिक पठन आपके पिताश्री के सानिध्य में ही हुआ और सज्ञोपवित संस्कार १९७८ में हुआ | आपके पिताश्री पंडित लेखराज जी द्विवेदी के ज्योतिष एवं कर्मकांड में  जगत जगत के प्रखांड विद्वान थे. आपने आजीवन कर्मकांड एवं ज्योतिष के क्षेत्र में कई नए आयामों को बनाते हुए कई विद्यार्थियों को निशुल्कः शिक्षा प्रधान की| श्रीमाली ब्राह्मण  समाज में आज भी इनका नाम बड़े ही आदरपूर्वक लिया जाता है||

know more

our services

Astrology is the belief the positions of the stars and movements of the planets of the Solar System, and also asteroids and other stars, but not as much, have an influence on the events, lives, and behavior of people. ... Modern astrologers see astrology as a symbolic language..

Service

Consultancy

arious types of consultancy are available regarding love & relationship, personal &confidential , wealth & prosperity, career & business

Get in Touch
Service

Janam Patri / Kundali

Astrologer will give you the best solution based on your birth chart ( janam kundli) . Get an overview of your planetary placements, ongoing Dasha sequence and Transit effect.

Get in Touch
Service

Match Making

Online kundali matching is the process to compare kundalis of the prospective bride and groom. Horoscope matching or Kundali Milan is the compatibility analysis between couples as per Vedic Astrology. Accurate Kundali match making is critical for a happy, long-term, and successful married life. Gun Milan is considered extremely important as per the Indian tradition before finalizing the marriage.

Get in Touch
Service

Pooja

we provide various types of pooja by the help of vedic pandits and vedic mantra for wealth & prosperty.

read more
Service

Health and other family issue

Astrology can help you to live a healthy & fit life. As each organ, anatomical structure, and body part is inherently influenced by astrological elements, we can predict certain things through astrology.

get in touch
Service

Vastu Shastra

Mr. Dwivedi is having rich experience of more than 26 years in vastu shastra. vastu is an inquisitive science of architecture encapsulates the forces which act upon a given space through flow of positiv energy. Vastu refers to 'abode' or mansion and Shastra or Vidya means science or knowledge, so Vastu Vidya is the sacred holistic science pertaining to designing and building of houses. The principles of vastu have been derived from Sthapathya Veda- one of the ancient scared books in Hinduism. Human body is made up of five elements namely earth, fire, sky, water and air. Similarly earth is also comprises of these 'Panchbhootas' which we need to balance through there corresponding directions..

get in touch